Breaking News

7 हजार साल पुरानी ममी मिली इंडोनेशियाई में, वैज्ञानिक देख हुए हैरान

दोस्तों पृथ्वी का अस्तित्व है लाखों करोड़ों साल पुराना है जहां हजारों साल पहले से मनुष्य के होने के सबूत प्राप्त होते हैं। हाल ही में इंडोनेशिया में एक महिला की मम्मी पाई गई है जिसे लेकर वैज्ञानिक पर काफी आश्चर्यचकित हो गए हैं। आज आपको इस घटना के बारे में कुछ खास और दिल से बातें बताते हैं।

इंडोनेशिया में 7,000 साल की महिला के शव ने मानव इतिहास के कई अकल्पनीय रहस्यों से पर्दा हटाना शुरू कर दिया है। महिला के शरीर से मिले आनुवंशिक निशानों से पता चला है कि इंडोनेशिया में रहने वाले इंसानों और साइबेरिया में रहने वाले इंसानों के बीच बहुत शुरुआती समय से मिलावट है। शोध में शामिल वैज्ञानिक हैरान रह गए हैं। शोधकर्ताओं को यह समझ में नहीं आ रहा है कि इंडोनेशियाई महिला का साइबेरिया से संपर्क कैसे रहा होगा।

 

इस महिला के शरीर पर जो अनुवांशिक निशान मिले हैं उन्हें देखकर यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि इंडोनेशिया में बहुत पुराने समय में रहने वाले इंसानों और साइबेरिया के रहने वाले इंसानों के बीच एक खास कनेक्शन था। वैज्ञानिक अभी तक यह समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर इंडोनेशिया की महिला का साइबेरिया से किस तरह से संपर्क हुआ। दरअसल इंडोनेशिया और साइबेरिया के बीच हजारों किलोमीटर की दूरी है। जिसके बाद इन दोनों के बीच मिश्रण होने की जानकारी ने वैज्ञानिकों को आश्चर्यचकित कर दिया है।

7,000 साल की एक महिला के शरीर की खोज के बाद, वैज्ञानिक इंसानों के शुरुआती इतिहास का पता लगाने की कोशिश कर रहे थे। आनुवंशिक परीक्षण से पता चला कि इंडोनेशिया में शुरुआती इंसान और साइबेरिया के लोग हजारों किलोमीटर दूर रहते थे। मिश्रण वैज्ञानिकों की अपेक्षा से बहुत पहले हुआ। अगस्त में, वैज्ञानिक पत्रिका नेचर में प्रकाशित एक शोध पत्र ने पहले के सिद्धांतों को डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड (डीएनए) से बदल दिया, जो एशिया में प्रारंभिक मानव प्रवास के आनुवंशिक फिंगरप्रिंट का विश्लेषण करता है। एक इंडोनेशियाई गुफा में एक अनुष्ठान के बाद महिला के शरीर को दफनाया गया था।

 

रिपोर्ट के अनुसार महिला के शरीर को धार्मिक अनुष्ठान के बाद दफनाया गया था। महिला के शरीर की जांच करने पर वैज्ञानिकों को अजीबोगरीब नतीजे देखने को मिले। जिनके अनुसार अंदाजा लगाया गया कि शुरुआती समय में दो होमोसेपियंस प्रजाति का मिलन हुआ होगा। जिसके बाद इस प्रजाति का निर्माण हुआ। महिला का यह कंकाल चट्टानों के बीच काफी सुरक्षित अवस्था में पाया गया था।

इंडोनेशिया की 7,000 साल की महिला के शरीर के डीएनए टेस्ट के नतीजे सभी को हैरान कर देने वाले हैं। ऑस्ट्रेलिया में ग्रिफ़िथ विश्वविद्यालय के एक पुरातत्वविद् बसरान बुरहान ने कहा, “यह संभावना है कि दो होमो सेपियन्स प्रजातियां प्रारंभिक वालेसिया क्षेत्र में मिले हों और फिर डेनिसोवन्स (उप-प्रजाति) का गठन किया हो। “वैज्ञानिक बुरहान इस शोध में भाग लेने वाले वैज्ञानिकों में से एक हैं। इंडोनेशिया के सुलावेसी में चट्टानों के बीच महिला का शव बेहद सुरक्षित हालत में मिला था। धार्मिक कर्मकांडों से महिला का शव पूरी तरह सुरक्षित था। उन्हें चट्टानों के बीच लिंग पन्नेज गुफा में हाथ से दफनाया गया था।

 

गौरतलब है कि डेनिसोवांस पुराने समय में मनुष्य का एक समूह था जिसका नाम साइबेरिया के गुफा के नाम पर रखा गया वहां उनके अवशेष पहली बार 2010 में प्राप्त हुए थे वैज्ञानिक इस बारे में बहुत कम जानते थे यहां तक की उनकी उपस्थिति का क्षेत्र भी वैज्ञानिकों को नहीं पता था। महिला के इस कंकाल को वैज्ञानिकों ने बेसे नाम दिया है इसका मतलब नवजात बच्ची होता है।

महिला शरीर उष्ण कटिबंध में पाए जाने वाले कुछ अच्छी तरह से संरक्षित नमूनों में से एक है। वैज्ञानिकों ने कहा कि इससे पता चलता है कि वह ऑस्ट्रोनेशियन लोगों से दक्षिण पूर्व एशिया और ओशिनिया में आई होगी, जो काफी आम है। लेकिन हो सकता है कि वह डेनिसोवन (उप-प्रजाति) का एक छोटा सा हिस्सा लेकर आई हो।

तमाम शोधों के बाद, दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला था कि केवल 3500 साल पहले, उत्तर एशिया के लोग, जिन्हें डेनिसोवन्स कहा जाता था, दक्षिण-पूर्व एशिया में चले गए होंगे। फिर भी, ‘बेस्स’ के डीएनए ने मानव प्रवास के पैटर्न के प्रारंभिक परिवर्तित सिद्धांत दिए हैं। यह खोज पापुअन्स और स्वदेशी आस्ट्रेलियाई लोगों की उत्पत्ति के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने में भी मदद कर सकती है, जो डेनिसोवन डीएनए साझा करते हैं।

वहीं, दक्षिण सुलावेसी में हसनुद्दीन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर इवान सुमंत्रि ने कहा कि “प्रारंभिक मानव प्रवास के बारे में जो भी सिद्धांत हैं, वे बदल जाएंगे क्योंकि नस्ल के सिद्धांत भी बदल रहे हैं”। बेसे के अवशेष इंडोनेशिया के सबसे पुराने जातीय समूह ऑस्ट्रोनेशियन के बीच डेनिसोवन्स के पहले संकेत प्रदान करते हैं। “अब कल्पना करने की कोशिश करें कि उन्होंने इंडोनेशिया तक पहुंचने के लिए अपने जीन को कैसे फैलाया और वितरित किया होगा,” उन्होंने कहा।

About admin

Check Also

सगाई कर सलमान खान के घर की बहु बनी सोनाक्षी सिन्हा, देखिये पूरी खबर..

सोनाक्षी सिन्हा ने अपनी पहली फ़िल्म सलमान खान के साथ करी थी जो कि बहुत …

Leave a Reply

Your email address will not be published.